दुनिया के पाखंडी लोग

Share this Article:-
Rate This post❤️

दुनिया के पाखंडी लोग


 एक चार ईट्टों की बनी माता को भगवान मान लेंगे उस माता पर कुत्ता पेशाब करता है वह भगवान है!
पत्थर की मूर्ति को पूजते हैं
पीरो मजारों को पूजते है जो बोल नहीं सकते समाधान नहीं कर सकते. तीर्थों पर जाते हैं।
क्या मिलता है,कुछ नहीं। गंगा मे नहाने से पाप कटते हैं तो सबसे पहले कछुवे मेंढक मछली सैकडों जीवों के कट जाने चाहिये वे तो गंगा मे ही रहते हैं ।
गंगा मे नहाने से तन का मैल
दूर हो गया मन का मैल कैसे दूर करोगे.. उसके लिए
कबीर साहेब कहते है।..
कबीर -पर्वत पर्वत मैं फिरा कारण अपने राम।
राम सरीखे संत मिले, जिन सारे सब काम..
कबीर परमात्मा हमें समझाने के लिए एक trainer
की तरह अपने उपर उदाहरण देकर कहते है मैंने
भगवान को पर्वत पर्वत जंगलो में
ढूंढा कहीं भगवान नही मिले.. राम जैसे
ज्ञानी संत मिले उन संतो से मेरा हर काम सफल हो गया..
कबीर- तीर्थ जाये एक फल, संत मिले अनेक फल पूर्ण संत के सतसंग से अनेक फल मिलते है मन का मैल
दूर होता है आत्मा निर्मल होती है।
पूर्ण संत को पूज लो वह पूर्ण गुरू आपको पूर्ण परमात्मा की भक्ति भी बतायेगा आपको ज्ञान भी मिलेगा और आपका समाधान भी करेगा..
पूर्ण संत के पास से आप खाली हाथ नही आ सकते
आपको ज्ञान मोक्ष मार्ग और समाधान
मिलता है लेकिन इन पत्थरो को पूजने से कुछ नही मिलता.. वेद,गीता मे नहीं लिखा कि पत्थर तीर्थ पूजो..
लोग गाय को पूजते है ये मानकर गाय मे 33 करोड़ देवी देवताओं का वास हैा
पूर्ण संत से हमें तत्वज्ञान मिलता है , पूर्ण परमात्मा की पूजा विधि मिलती है जिससे पूर्ण मोक्ष होगा.. हमारी रक्षा होगी?? सतनाम सारनाम गायत्री तीन तरह के मंत्र मिले.. जिनसे
इतना कुछ मिला हमारे विकार दूर कर दिये वह हमारे लिए भगवान है।
लेकिन देवी देवताओं से कोई लाभ नही मिलता ये सारे देवता रावण और मेघनाथ ने पकड़ कर पीटे थे देवताओं का राजा इंन्द्र भी पीटा.. 33 करोड़ देवी देवता रावण की कैद में थे ये देवता खुद दुखी है दूसरो को क्या लाभ देंगे
इन देवताओ से तो अच्छी गाय माता है कम से कम हमको घी दूध तो देती है
प्रश्न1.. ह० मुहम्मद जी को लोग अल्लाह का रसूल मानते है जब वो पैदा हुए उनके माता पिता अल्लाह को प्यारे हो गये.. बचपन मे ही अनाथ हो गये उनके तीन लड़के थे
तीनो उनकी आखो के सामने मर गये.. ह० मुहम्मद की अल्लाह से इतनी भी जान पहचान नही थी की वह उस अल्लाह से अपने बच्चो की जिंदगी मांग सके.. जब उस अल्लाह ने मुहम्मद जी को नहीं छोड़ा तो अन्य मुसलमान
क्यो उस अल्लाह से अपनी जान और अपने बच्चो की सलामती मांगते है.. ह०मुहम्मद के द्वारा बताई गई अिबादत पूजा ने ह० मुहम्मद के बच्चों की रक्षा नही करी वह अिबादत पूजा तुम्हारी क्या रक्षा करेगी.. ह० मुहम्मद जी तड़प तड़प कर अल्लाह को प्यारे हो गए..
इसका कारण ये है कि ह० मुहम्मद काल शैतान को अल्लाह मान बैठा था जबकि सु० फु 25 आयत 59 मे लिखा है वह अल्लाह कबीर है वह रहमान दयालु है उसकी खबर मतलब अिबादत
पूजा विधि किसी बाखबर ईल्मवाले से पूछो..
वह बाखबर न ह० मुहम्मद
को मिला न मुसलमानो को.. फिर भी ह०मुहम्मद जी को पैगम्बर अल्लाह का रसूल मानते है।….
ईसा जी को सूली पर चढ़ा दिया ईसाई लोग ईसा को क्यों मानते हैं अगर ईसा जी God थे ..तो सूली पर क्यों चढ़े क्यों लोग उनको मारने आये?
लोगो ने क्यों उनको सूली पर चढ़ा दिया ?
ईसा जी अगर God के messenger
भी थे तो क्यों नही बचाया God ने ईसा को…???
है कोई जवाब किसी के पास …??? फिर भी ईसाई लोग ईसा को मानते है।
हिन्दू धर्म के लोगो हनुमान जी को भगवान मानते है हनुमान जी को ये
नही पता संजीवनी जडी बूटी कैसी होती है। एक बूटी के लिए पहाड़ उठा ले आये हनुमान …
एक जड़ी बूटी की पहचान नहीं फिर
भी अन्तर्यामी बोलते हो हनुमान जी को..
अगर तुम पहाड़ उठाने से श्रीकृष्ण और हनुमान को भगवान मानते हो तो शेषनाग ने तो पृथ्वी उठा रखी है तुम्हारे ही शब्दों में..
तो हनुमान से बड़ा तो शेषनाग हुआ…
अगर तुम मानते हो राम का नाम लिखने से पत्थर तैर गये राम ने पुल बना दिया तो अगस्त ऋषि ने सातो समुंद्र पी लिये थे राम से बड़ा तो अगस्त ऋषि हुआ..
उसको क्यों भगवान नही मानते…
कृष्ण को भगवान मानते हो कृष्ण
जी की आंखो के सामने 56 करोड़ यादव द्वारिका मे आपस मे कट कर मर गये.. कृष्णजी उन यादवों को नही बचा पाये..
दुर्वाषा ऋषि के श्राप को नही टाल सके कृष्ण जी फिर काहे के भगवान.. द्वारिका भी समुंद्र में डूब गई उनकी ..
राम ने बालि को मारा फिर बालि की आत्मा ने शिकारी बनकर कृष्ण को मारा.. इनको भगवान कहते हो जो अपने पाप नही काट सके वह तुम्हारे क्या काटेंगे..
कृष्ण जी के सामने अभिमन्यु मारा गया कृष्ण भगवान थे क्यों नही जीवित किया..
क्यों नही 56 करोड़ यादवों को बचा पाये..
कृष्ण के मरने के बाद गोपीयों को भिल्लो ने लूठा अर्जुन को भी पीटा..
दुनिया के लोग कृष्ण की फोटो के सामने अपनी अपने बच्चों की जान की भीख मांगते है जब कृष्णजी शरीर में थे !जब वह यादवों और अभिमन्यु
को नहीं बचा पाये तुम लोग तो फोटो को भगवान माने बैठे हो तुम्हे कैसे बचायेगे..
लोग शिव को भगवान मानते है एक बार भस्मासुर ने तप किया । शिव से भस्म कड़ा लेकर शिव के पीछे भाग लिया..
शिव भगवान डर कर आगे आगे भाग रहे थे और उनका पुजारी उनको मारने के लिए उनके पीछे भाग रहा था. बताओ  शिव खुद की रक्षा नही कर सकते अगर शिव को भी मरने से डर लगता है।
पार्वती हवन कुंड मे कूदकर मर गई थी शिव तो अन्तर्यामी भगवान थे उनको क्यों मालूम नही हुआ..
क्यों पार्वती को नहीं बचा पाये..
जो अपनी पत्नी की रक्षा नहीं कर सकते वह दूसरो की क्या करेंगे..
केदारनाथ मे सैकड़ों लोग मारे गए शिव
क्यों नही बचा पाये..
हरिद्वार 1991 में नीलकंठ
पर हजारों लोग मारे गए थे ।
एक बार हरिद्वार में 2500 साधु कुम्भ के मेले मे आपस में कट कर कर मर
गये शिव क्यों नही बचा पाये??
भगवान थे तो क्यों नहीं बचाया ????
–> राम को भगवान मानते हो राम को ये नही पता मेरी सीता को कौन उठा ले गया ??
सीता का पता लगाने के लिए भी सेना का सहारा लिया काहे का भगवान??? सीता को रावण उठा ले गया..
राम एक सीता की रक्षा नही कर पाया तुम्हारी क्या करेगा.. 14 वर्ष जंगल मे भटकने की क्या जरूरत थी.. अगर जंगल मे राक्षसों को मारना था तो वैसे जाकर भी मार सकते थे.. ये वनवासी का ढोंग करने की क्या जरूरत थी.. राम जी तो भगवान थे पहुंच जाते सीधे लंका मे मार देते रावण को…
सीता को 12 साल तक रावण की कैद मे डालने की क्या जरूरत थी।

यदि अपनी सम्पूर्ण सुरक्षा एवं मोक्ष चाहते हो तो आओ बन्दीछोड़ की शरण में ,जो सभी प्रकार के बन्धनों से मुक्त करते हैं ॥

🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

LORD KABIR

 


Share this Article:-
Default image
Banti Kumar

📽️Video 📷Photo Editor | ✍️Blogger | ▶️Youtuber | 💡Creator | 🖌️Animator | 🎨Logo Designer | Proud Indian

Articles: 370

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *