naam diksha ad

पहली बार एक ही रिपोर्ट में संत रामपाल जी महाराज से जुड़ी 3 खबरें एक साथ

Share this Article:-
Rate This post❤️

Exclusive : वेबसाइट के इतिहास में पहली बार एक ही रिपोर्ट में संत रामपाल जी महाराज से जुड़ी 3 खबरें एक साथ।

 News no. 1 

जेल में एक पुलिसकर्मी सहित 38 कैदियों ने लिया संत रामपाल जी महाराज से नाम उपदेश


बैतूल | 5 जुलाई 2017

ये शायद चमत्कार को नमस्कार करने वालों के लिए संत रामपाल जी महाराज का साधारण सा संकेत ही कहा जायेगा।

पढ़ कर हैरानी हो रही होगी ,और अविश्वास की स्थिति निर्मित हो रही होगी आपके दिमाग में।

पर ऐसा हुआ है सघन वनों के लिए विश्वविख्यात सतपुड़ा के समीप ,बैतूल में ।

बात हो रही है मध्य प्रदेश के जिला बैतूल की जहां पर कई वर्षों से अपने गुनाहों की सजा काट रहे कैदियों की जो जेल में भी  अध्यात्म की सर्वोत्तम राह पर अपना पहला पड़ाव रख चुके हैं।

     खबर कुछ इस प्रकार है कि बैतूल जिला जेल में पिछले हफ्ते हरियाणा की जेल में बंद निर्दोष संत, संत रामपाल जी महाराज का सत्संग LED के माध्यम से हुआ। उस सत्संग का ऐसा अभूतपूर्व असर इन कैदियों पर हुआ कि उन्होंने संत जी से नाम दीक्षा लेने के लिए अपने नाम दर्ज कराए जिसके लिए आज बैतूल में नाम दीक्षा दिलाने की व्यवस्था की गई, एक पुलिस वाले समेत 38 कैदियों ने संत रामपाल जी महाराज जी से नाम दीक्षा ग्रहण की। एवं जिंदगी भर संत रामपाल जी महाराज के बताए हुए शास्त्रों से प्रमाणित पंथ पर चलने का प्रण लिया एवं नाम दीक्षा लेने के बाद सभी कैदियों के चेहरे पर एक अध्यात्म के तेज की रोशनी देखते ही बन रही थी। क्योंकि इससे पहले वह कभी भी सच्चे अध्यात्म पर नहीं लगे थे और ना ही उन्हें ऐसा तत्व दर्शी संत मिला था ।

नाम दीक्षा लेते ही इन सभी कैदियों ने जय जयकार लगाई और हर्ष व्यक्त किया साथ ही यहीं पर जिला जेल जेलर एस.एन. शुक्ला जी ने घोषणा की कि इन कैदियों को भक्ति के लिए विशेष समय दिया जाएगा और इनकी भक्ति में बाधक बनने वाली परिस्थितियों को खत्म किया जाएगा । यहीं पर कुछ  कैदी पेशी पर कोर्ट गए थे जिनके लिए कुछ दिनों बाद पुनः ,नाम उपदेश दिलाने की व्यवस्था की जाएगी। इसी अवसर पर मध्य प्रदेश स्टेट कोऑर्डिनेटर विष्णु दास जी ने सतलोक आश्रम बेतूल की तरफ से संत रामपाल जी महाराज का साधना TV ,ईश्वर TV,MH1श्रद्धा आदि चैनलों पर आने वाले सत्संग को सुनने के लिए एक DTH निशुल्क दी। इस बात को सुनकर कैदियों ने संत रामपाल जी महाराज सहित सभी शिष्यों की भूरि-भूरि प्रशंसा की और जय बंदी छोड़ की नारे लगाए जिससे जेल की प्राचीर भी गुंजायमान हो गए। इसी अवसर पर बैतूल जिला कोऑर्डिनेटर राजू दास ,प्रभु दास भरत दास , नवीन दास, रमेश दास, अशोक दास ,बंटी दास ,अंकित दास विक्की दास आदि भक्तों ने कैदियों की सेवा की।
 News no. 2 

ग्वालियर शहर में हुई एक अनोखी शादी बनी मध्यप्रदेश में चर्चा का विषय

ग्वालियर | 5 जूलाई ,2017 

आमतौर ऐसी शादियों के बारे आपने केवल सुना ही होगा, आईये आज आपको आंखों देखा हॉल सुनाते हैं।
आमतौर पर विवाह समाज में होते ही रहते हैं आपने तमाम धूम-धड़ाके की शादी देखी होगी, राजशाही विवाह भी देखे होंगे, परंतु आखिर क्यों एक विवाह पूरे मध्य प्रदेश  में चर्चा का विषय बन गया। तो आइए चलते हैं मध्य प्रदेश के जिला ग्वालियर और पता करते हैं आख़िर इस विवाह में ऐसा क्या हुआ….

जब यहां हम पहुंचे तो पता चला की दुल्हन दीपा का विवाह मुरार  निवासी रामकिशन दास से होने जा रहा था ।जब हमने यहां जानने की कोशिश की तो हमें मालूम हुआ कि यहां पर ना ही कोई बड़ा गार्डन ,ना ही कोई भव्य स्टेज एवं DJ, मेकअप करने वाली स्त्रियां एवं यहां तक किसी भी व्यक्ति को धूम्रपान तक करते नही देखा ।
जब हमने यहाँ पूछा कि आखिर यह किस प्रकार का अनूठा विवाह है ,तो हमें यहां पर मिले संत रामपाल जी महाराज के अनुयाई उन्होंने बताया कि उनके गुरुदेव की विचारधारा अनुसार इस प्रकार के विवाह देश-परदेश में होते हैं जो की फिजूलखर्ची से मीलों दूर, आडंबरों से कोसों दूर एवं दहेज रहित होते हैं ।इन विवाह की मुख्य  खासीयत यह है कि यह मात्र उनके गुरु द्वारा ,बंदी छोड़ गरीब दास जी महाराज द्वारा लिखित असुर निकंदन रमैनी द्वारा संपूर्ण हो जाती है जो कि मात्र 17 मिनट का एक ऑडियो है ।

जब हम आगे बढ़े तो हमारी मुलाकात हुई दुल्हन दीपा कुमारी के पिता वृंदावन दास से उन्होंने बताया कि आज मैं बेहद खुश हूं कि मेरी बेटी बिना किसी दहेज के एवं सांसारिक कुरीतियों से दूर हटकर अपने ससुराल जाने वाली है एवं में संत रामपाल जी महाराज का तहे दिल से कोटी-कोटी शुक्रिया अदा करता हूं कि आज उन्होंने अपने ज्ञान द्वारा अपने सत्संग और द्वारा समाज में इस प्रकार के विवाह को मान्यता दिलाई जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी ऐसे विधी से हर पुत्री का विवाह बड़ी ही सहजता से हो सकता है।


 News no. 3 

प्रतिदिन समाज के सामने नए आयाम स्थापित करती संत रामपाल जी महाराज की संगत में हुई एक और दहेज रहित शादी। 


 जोधपुर | 5 जुलाई 2017

राजस्थान में जोधपुर की एक  विशेष पहचान रही है , यहां की संस्क्रति , यहां के लोगो मे अपनापन , राजमहाराजो का राज  हो या कोई विरासत की बात। लेकिन हम जो बात रहे है वो है समाज मे झूठी शानोबान के लिए दिए जाने दहेज के बारे जिसे विशेष कर के राजा महाराजाओं ने अपनी आन बान शान के लिए चलाया, बाद में ये दहेज प्रथा बहुत सी बेटियों के लिए काल बन गयी।  उन्ही बुराईयों को मात देते हुवे , मान बढ़ाई को दर किनार करते हुवे , नशे रूपी राक्षस के रूप में  प्रयोग होने वाली  दारू, बीड़ी,सिगरेट,जर्दा, गुटखा ,तम्बाकू आदि वस्तुओं का प्रयोग हो या जीव हत्या करना हो , यह सब बुराइया  करना तो दूर  छुना तक नही, दहेज रूपी नागिन का अंत हो रहा है।  यह सिर्फ और सिर्फ   #सन्तरामपालजी महाराज जो कि पूर्ण ब्रह्म #कबीर परमात्मा के स्वरूप है , के प्रयासों से , शिक्षा से, सदभगती और आशीर्वाद से । नही तो आम इंसान इतने सामाजिक सुधार कर ही नही सकता है ,न इंसान में इतनी हिमत  है,लेकिन गुरुदेव भगवान #सन्तरामपालजी महाराज के आशीर्वाद  से , भगत में इतनी हिम्मत  ,शक्ति आ जाती है की वो अपने गुरुदेव भगवान के वचनों को निभाते हुवे इन बुराइयों को पल में छोड़ देता है जबकि इन बुराईयों को बिना गुरु दीक्षा लिए छुड़वाने में युग बीत जाते है लेकिन बुराइया दूर नहीं होती है।

  ऐसा ही उदाहरण आज जोधपुर में संत रामपाल जी महाराज के अनुयायियों ने पेश किया और दहेज को पूरी तरह गुरु देव भगवान के आशीर्वाद से ख़त्म किया। जिसमे गौरव दास ,कलाल कॉलोनी नागोरी गेट ,जोधपुर के रहने वाले भगत की रमैनी (शादी) ,बालोतरा जोधपुर की रहने वाली……..  दासी के साथ मात्र 17 मिनट में गुरुदेव भगवान #सन्तरामपालजी महाराज को साक्षी मानकर, परमात्मा की वाणी बोलकर संपन्न हुई । यहां हम आपको फिर बताना चाहेंगे कि सन्तजी के शिष्यों में घोड़ी, बेंड बाजा, पंडित , गाना बजाना या मूर्हत की जरूरत नही रहती है  क्यो की हमारे गुरुदेव भगवान ही सब कुछ है और उनका आदेश ही हमारे लिए मूहर्त है। परमात्मा की वाणी से जो रमैनी(शादी) होती है ,यह शास्त्र अनुकुल होने से विवाहित जोड़ा सुखी रहता है अपने गुरु देव भगवान की कृपा और आशीर्वाद से और मर्यादा में भगती करते हुवे भगत परिवार जिंदगी भर सुखी रहता है।

        रमैनी में मौजूद  उपस्थित भगतो ने और राजस्थान के  सेवादार प्रकाश दास ने  बताया कि जो गुरुदेव के भगत है वो दहेज न तो लेते है और न ही दहेज देते है। साथ में ,समाज मे भी इस बुराई को छुड़वाने के लिए , और #सन्तरामपालजी महाराज  का तत्वज्ञान का प्रचार करके भी लोगो को जागरूक कर रहे है। कार्यक्रम में मौजूद अनु बहन ने लड़के से पूछा कि दहेज लिया आपने ,तो कहा नही बिल्कुल नही जी, फिर लड़की से पूछा कि आपके घरवालों ने दहेज दिया है या लड़के वालों ने मांगा है तो लड़की ने तुरन्त कहा की नही मांगा दहेज और मांग भी लेते तो में रमैनी (शादी) करती ही  नहीं
        यह आज के समय मे समाज सूधार के साथ साथ सद भगती दे रहे है पूरे विश्व मे सिर्फ और सिर्फ #सन्तरामपालजी महाराज और किसी के पास न तो ज्ञान है और न ही शास्त्र अनुकूल भगती ।
              तभी बजरंग दास ,जिला सेवादार जोधपुर ने बताया कि  #सन्तरामपालजी महाराज की प्रकाशित पुस्तक
  जीने_की_राह
👇👇👇 👇👇👇👇
फ्री डाऊनलोड
https://goo.gl/nPDh6U 

करके , मात्र 20 दिनों में 12 लाख लोग पढ़ चुके है । अतः आप सबसे हाथ जोड़कर प्राथना है ,इस पुस्तक को फ्री डाउनलोड करके पढे,ज्ञान समजे ,टीवी के छः चेनल पर सत्संग देखे और निर्णय लेकर #सन्तरामपालजी मजराज से उपदेस लेकर भगती करके जम्म मरण से पीछा छुटवा कर अमरलोक की प्राप्ति करे।

Facebook पर Like करें :-

Twitter पर फॉलो करें :-

Follow @lordkabir

Youtube पर सब्सक्राइब करें :-

LORD KABIR

 


Share this Article:-
Banti Kumar
Banti Kumar

📽️Video 📷Photo Editor | ✍️Blogger | ▶️Youtuber | 💡Creator | 🖌️Animator | 🎨Logo Designer | Proud Indian

Articles: 370

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

naam diksha ad

naam diksha ad