Guru Purnima 2022 Date: गुरु पूर्णिमा का महत्व, मुहूर्त और पूजा विधि | सच्चे गुरु का महत्त्व

गुरु पूर्णिमा 2020:- गुरु पूर्णिमा (पूर्णिमा) एक गुरु-शिष्य के रिश्ते को मनाने का दिन है। आज इस ब्लॉग में, हम सीखेंगे कि 2022 में गुरु पूर्णिमा कब है, गुरु का महत्व, सच्चे गुरु की क्या पहचान है, जो सतगुरु है, उसके बारे में हमारे पवित्र शास्त्र क्या कहते है, और विशेष संदेश।
Share this Article:-

गुरु पूर्णिमा 2022:- गुरु पूर्णिमा (पूर्णिमा) एक गुरु-शिष्य के रिश्ते को मनाने का दिन है। आज इस ब्लॉग में, हम सीखेंगे कि 2022 में गुरु पूर्णिमा कब है, गुरु का महत्व, सच्चे गुरु की क्या पहचान है, जो सतगुरु है, उसके बारे में हमारे पवित्र शास्त्र क्या कहते है, और विशेष संदेश।

इस वर्ष, गुरु पूर्णिमा रविवार, 5 जुलाई को है। “गुरु पूर्णिमा” नाम से, यह स्पष्ट है कि यह पूर्णिमा (पूर्णिमा के दिन) पर पड़ता है। गुरु पूर्णिमा को हिंदू कैलेंडर माह आषाढ़ में मनाया जाता है। इसलिए इस पूर्णिमा के गुरु पूर्णिमा के साथ आषाढ़ पूर्णिमा भी कहते है।

गुरु पूर्णिमा का इतिहास

गुरु पूर्णिमा उत्सव की उत्पत्ति से संबंधित विभिन्न धर्मों के लिए अलग-अलग कहानियां हैं।

हिंदू धर्म में गुरु पूर्णिमा की कहानी

गुरु पूर्णिमा को वेद व्यास की जयंती के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।
सनातन संस्कृति के 18 पुराणों के रचयिता महर्षि वेदव्यास को माना जाता है। उन्होंने वेदों की रचना कर उनको 18 भागों में विभक्त किया था इस कारण उनका नाम वेदव्यास पड़ा था। महर्षि वेदव्यास को आदि गुरु भी कहा जाता है।

बौद्ध धर्म में गुरु पूर्णिमा की कहानी

बुद्ध ने इसी दिन अपना पहला उपदेश दिया था।

जैन धर्म में गुरु पूर्णिमा की कहानी

उनके प्रथम शिष्य गौतम स्वामी ने भगवान महावीर से दीक्षा ली।

गुरु पूर्णिमा 2020 पूजा गुरु पूर्णिमा के अवसर पर, कई लोग पूरे दिन उपवास रखते हैं, मंदिरों में जाते हैं, और शिष्य अपने पूज्य गुरु के लिए विशेष पूजा करते हैं।

गुरु पूर्णिमा का महत्व

गुरु पूर्णिमा भारत, नेपाल और भूटान जैसे दक्षिण एशिया के कुछ देशों में हिंदुओं, जैनों और बौद्धों द्वारा मनाया जाता है। गुरु पूर्णिमा को शिष्यों द्वारा अपने आध्यात्मिक शिक्षक के प्रति आभार व्यक्त किया जाता है। एक आध्यात्मिक शिक्षक मानव जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वह अपने शिष्यों को जीवन जीने का सर्वोत्तम तरीका और पूर्ण मुक्ति का मार्गदर्शन करता है। इसलिए, गुरु पूर्णिमा का भारतीय शिक्षाविदों और विद्वानों के लिए बहुत महत्व है। कुछ संस्कृत विद्वानों के अनुसार, “गुरु” का अनुवाद “अंधेरे का निवारण” के रूप में होता है।
गुरु के बिना ज्ञान की प्राप्ति नही होती है, सच्चे गुरु की जब प्राप्ति हो जाती है तो जीवन से सभी प्रकार के अंधकार मिट जाते है।
शब्द, आमतौर पर, आध्यात्मिक मार्गदर्शक को संदर्भित करता है जो अपने सच्चे आध्यात्मिक ज्ञान के माध्यम से अपने शिष्यों को प्रबुद्ध करता है।

पवित्र वेदों और शास्त्रों में सच्चे गुरु की पहचान और उसके लक्षण

श्रीमद्भागवत गीता में पूर्ण गुरु (पूर्ण संत, सतगरू) के बारे में बताया है

  1. गीता अध्याय 4 श्लोक 34 में गीता ज्ञानदाता अर्जुन से कहता है कि अर्जुन! सभी अनुष्ठानों की जानकारी तत्वदर्शी सन्त के पास है, उनको दंडवत प्रणाम करने और कपट छोड़कर भक्ति करने पर वो तत्वदर्शी सन्त (पूर्ण गुरु) तुझे तत्वज्ञान ज्ञान प्रदान करेंगे।
  2. गीता अध्याय 15 श्लोक 1-4 में तत्वदर्शी सन्त की पहचान बताई गई है।
    जो सन्त संसार रूपी पीपल के वृक्ष के सभी भागों को सही-सही विभाजित कर देगा। वह तत्वदर्शी सन्त है। अर्थात पूर्ण गुरु, सतगुरु है।
  3. गीता अनुसार पूर्ण परमात्मा की भक्तिविधि क्या है ?
    गीता अध्याय 17 श्लोक 23 में लिखा है कि पूर्ण परमात्मा का मूल मंत्र ॐ, तत्, सत है। इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी तत्वदर्शी सन्त (सतगुरु) ही रखता है।

पवित्र वेदों में:-

  1. वेदों में प्रमाण है कि जो जगत का तारणहार होगा, (पूर्ण संत) वह तीन बार की संध्या करता तथा करवाता है। सुबह और शाम पूर्ण परमात्मा की स्तुति-आरती तथा मध्यदिन में विश्व के सब देवताओं की स्तुति करने को कहता है।
    प्रमाण :- ऋग्वेद मंडल न. 8 सूक्त 1 मन्त्र 9 व यजुर्वेद अध्याय 19 मन्त्र 26.
  2. यजुर्वेद अध्याय 40 मन्त्र 10 में कहा है कि परमात्मा को कोई तो ‘सम्भवात’ अर्थात राम-कृष्ण की तरह उत्पन्न होने वाला, तो कोई ‘असम्भवात’ अर्थात उत्पन्न न होने वाला, निराकार मानते है।
    लेकिन वास्तविक सच्चाई तो ‘धिराणाम’ तत्त्वदर्शी सन्त ही बता सकते है।

सूक्ष्मवेद में गुरू के लक्षण बताए हैं :-

गरीब, सतगुरू के लक्षण कहूँ, मधुरे बैन विनोद।
चार वेद छः शास्त्र, कह अठारह बोध।।

गरीबदास जी महाराज

सरलार्थ:- गरीबदास जी ने गुरू की पहचान बताई है कि जो सच्चा गुरू अर्थात् सतगुरू होगा, वह ऐसा ज्ञान बताता है कि उसके वचन आत्मा को आनन्दित कर देते हैं, बहुत मधुर लगते हैं क्योंकि वे सत्य पर आधारित होते हैं। कारण है कि सतगुरू चार वेदों तथा सर्व शास्त्रों का ज्ञान विस्तार से कहता है।

यही प्रमाण परमेश्वर कबीर जी ने सूक्ष्मवेद में कबीर सागर के अध्याय
‘‘जीव धर्म बोध‘‘ में पृष्ठ 1960 पर दिया है” :-

गुरू के लक्षण चार बखाना, प्रथम वेद शास्त्र को ज्ञाना।।
दुजे हरि भक्ति मन कर्म बानि, तीजे समदृष्टि करि जानी।।
चौथे वेद विधि सब कर्मा, ये चार गुरू गुण जानों मर्मा।।

सरलार्थ :– कबीर साहेब जी ने कहा है कि जो सच्चा गुरू होगा, उसके
चार मुख्य लक्षण होते हैं :-

  1. सब वेद तथा शास्त्रों को वह ठीक से जानता है।
  2. दूसरे वह स्वयं भी भक्ति मन-कर्म-वचन से करता है अर्थात् उसकी कथनी
    और करनी में कोई अन्तर नहीं होता।
  3. तीसरा लक्षण यह है कि वह सर्व अनुयाईयों से समान व्यवहार करता है,
    भेदभाव नहीं रखता।
  4. चौथा लक्षण यह है कि वह सर्व भक्ति कर्म वेदों (चार वेद तो सर्व जानते हैं 1. ऋग्वेद, 2. यजुर्वेद, 3. सामवेद, 4. अथर्ववेद तथा पाँचवां वेद सूक्ष्मवेद है,
    इन सर्व वेदों) के अनुसार करता और कराता है।

तो आज हम सब पढ़े-लिखे हैं तो इसका निर्णय अपने विवेक से कर सकते हैं। हमारे शास्त्र हमारा आधार और प्रमाण है। हमारे शास्त्रों में जो भी सच्चे सतगुरु की पहचान बताई है वर्तमान में वह सच्चा गुरु संत रामपाल जी महाराज ही है जो इन सभी बातों पर खरे उतरते है।

वर्तमान में सच्चा गुरु (सतगुरु) कौन है?

संत रामपाल जी महाराज आज वही सच्चे गुरु (सतगुरु) हैं। एक वास्तविक साधक एक सच्चे आध्यात्मिक गुरु (सतगुरु) को केवल भावनाओं के आधार पर नहीं बल्कि वेद, गीता, कुरान, गुरु ग्रंथ साहिब और बाइबल जैसे सभी पवित्र शास्त्रों के आध्यात्मिक ज्ञान के आधार पर चुनना चाहिए।

वह गुरु आज संत रामपाल जी महाराज हैं। उसके पास सतगुरु की ये सभी योग्यताएँ हैं। वह भगवान कबीर जी के अवतार हैं।
केवल संत रामपाल जी महाराज ही शास्त्र आधारित आध्यात्मिक ज्ञान को बताते हैं और भक्त समाज को सही मंत्र और सही तरीके से पूजा करने का अधिकार देते हैं। लेकिन भक्त को चाहिए कि वह गुरु द्वारा बताये गये मार्ग पर चले, मर्यादा में रह कर भक्ति करे। क्योंकि यह सच्चे भगवान को प्राप्त करने और पूर्ण मोक्ष का मार्ग है। उनकी उपासना का तरीका उनके सच्चे भक्तों के सांसारिक दुखों को समाप्त करने के लिए भी सिद्ध होता है।
हम जानते हैं कि कुछ समय में कैसे

Guru purnima 2022 Quotes in Hindi

एक आध्यात्मिक गुरु एक भक्त और भगवान के बीच एक कड़ी है।

केवल एक सच्चा आध्यात्मिक गुरु वह है जो अज्ञानता, तनाव, और सांसारिक दुखों के अंधेरे को समाप्त करके हमारी पूजा के मार्ग को प्रबुद्ध करता है, और हमें जन्म म्रत्यु से मुक्त करता है।

सच्चे आध्यात्मिक गुरु में अपने शिष्य के जीवन का विस्तार करने की शक्ति होती है।

गुरु के महत्व को बताते हुए संत कबीर का एक दोहा बड़ा ही प्रसिद्ध है। जो इस प्रकार है –

गुरु गोविन्द दोनों खड़े, काके लागूं पांय।
बलिहारी गुरु आपने, गोविंद दियो बताय॥

कबीर साहेब

कबीर, गुरू बिन काहु न पाया ज्ञाना, ज्यों थोथा भुस छडे़ मूढ़ किसाना।
कबीर, गुरू बिन वेद पढै़ जो प्राणी, समझै न सार रहे अज्ञानी।।

कबीर साहेब

इसलिए गुरू जी से वेद शास्त्रों का ज्ञान पढ़ना चाहिए जिससे सत्य भक्ति
की शास्त्रानुकूल साधना करके मानव जीवन धन्य हो जाए।

 


Share this Article:-
Default image
Banti Kumar
📽️Video 📷Photo Editor | ✍️Blogger | ▶️Youtuber | 💡Creator | 🖌️Animator | 🎨Logo Designer | Proud Indian
Articles: 365

Leave a Reply