संत रामपाल जी महाराज की महिला समर्थक ने लगाई फाँसी

Share this Article:-
Rate This post❤️

संत रामपाल जी महाराज की महिला समर्थक ने लगाई फाँसी, कारणो का पता नही ।


 हिसार : मटका चौक स्थित श्याम नर्सरी में जिस महिला का शव पेड़ से बंधे फंदे पर झूलता मिला था, वह सतलोक आश्रम के संचालक संत रामपाल जी महाराज की समर्थक थी। उसकी शिनाख्त नेपाल वासी 36 वर्षीय बिंदिया के रूप में हुई है। मृतका के परिजनों ने हत्या का अंदेशा जताया था लेकिन बाद में पुलिस को लिखित में किसी पर शक नहीं होने की बात कही है।



मृतका बिंदिया के पति जंगलिया नेपाल स्थित बरदिया के गांव राजापुर के रहने वाले हैं । नेपाल से 12 परिवार रामपाल के दर्शन करने के लिए 17 नवंबर की रात को हिसार पहुंच गए थे। इस दौरान बस स्टैंड के नजदीक एक होटल में महिलाएं रूक गई, जबकि दूसरे होटल में पुरुष ठहरे थे। 18 नवंबर को रामपाल की सरकारी ड्यूटी में बाधा पहुंचाना, बंधक बनाना और गैस सिलेंडर के अवैध भंडारण के मामले में जेल की अदालत में वीसी से पेशी थी। उनके दर्शन करने के लिए जेल के पास पहुंच गए थे।

जंगलिया का कहना है कि अचानक उसकी पत्‍‌नी बिंदिया संदिग्ध परिस्थितियों में कहीं लापता हो गई। उसे परिवार के लोगों ने कई जगह तलाश किया लेकिन उसका पता नहीं चल पाया। इस मामले में पुलिस को सूचित कर दिया था। 18 नवंबर की शाम को मटका चौक स्थित श्याम नर्सरी में महिला का शव पेड़ से बंधे फंदे पर झूलता मिला था। इसकी उन्हें कोई जानकारी नहीं थी। ऐसे में 20 नवंबर को पुलिस का फोन रिश्तेदार भगवत के पास आया। उसने महिला रिश्तेदार विष्णु को मामले से अवगत कराया। परिवार शव की शिनाख्त करने के लिए नागरिक अस्पताल पहुंच गया। वहां देखा तो शव बिंदिया का था। पुलिस के अनुसार फांसी लगाने की वजह से मौत हुई है


शव का पोस्टमार्टम करने वाले चिकित्सक डॉ. महाबीर का कहना है कि फांसी लगने से मौत हुई है। पोस्टमार्टम में इसकी पुष्टि करके पुलिस को बता दिया है ।

इस मामले में इतफाकिया कार्रवाई हुई है। महिला ने फांसी लगाई थी। क्या कारण रहे, कोई जानकारी नहीं है।

– विनोद कुमार, इंचार्ज पीएलए चौकी।

नोटः- ये एक साजिश भी हो सकती है ।

Youtube पर Subscribe करें।

naam diksha ad

LORD KABIR

 


Share this Article:-
Banti Kumar
Banti Kumar

📽️Video 📷Photo Editor | ✍️Blogger | ▶️Youtuber | 💡Creator | 🖌️Animator | 🎨Logo Designer | Proud Indian

Articles: 371

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

naam diksha ad